ब्रह्माकुमारीज सेक्टर-28 द्वारा गांधीनगर जिल्ला के भाई बहनो के तन मन की सुखाकारी के लिए एक मास के नि:शुल्क योग तालीम कार्यक्रमो का शुभारंभ

स्वास्थ्य समृध्धि एवम् खुशीका रहस्य

gandhinagargandhinagar3

 

उदघाटन फंकशन एवं दिपप्रागट्य विधि में गुजरात राज्य के रेवन्यु एवम एज्युकेशन मंत्री मान.
श्री.भुपेन्द्रसिन्ह चुडासमा साथ में स्टेज पर प्रॉ. ई.वी.गीरीश (पी.जी.डिप्लोमा इन सायको- न्युरोबिक्स, एम.बी.ए. इन मार्केटीन्ग एन्ड फायनान्स, डायनेमिक ट्रेनर एन्ड काउन्सेलर) मुंबइ, चिलोडा सेवाकेन्द्र
संचालिका बी.के.ताराबेन एवं उर्जनगर-1 सेवाकेन्द्र संचालिका बी.के.रंजनबेन उपस्थित थे ।

gandhinagar2

गांधीनगर में दादी जानकी जी का आगमन

सन 1937 से प्रजापिता ब्रह्माकुमारी इश्वरीय विश्व विध्यालय के संस्थापक पिताश्री प्रजापिता ब्रह्माबाबा के साथ रहते 80 साल की लम्बी राजयोग तपस्या के बल से आज 101वर्ष की आयु में भी समग्र विश्व के 147 देश में आध्यात्मिक क्रांति के लिये कटीबद्ध सेवाकेंद्रो का सक्रियता से आदर्श संचालन करते मुख्य प्रशासिका विश्व वंदनिय दादी जानकीजी गांधी बापु के गुजरात के केपिटल गांधीनगर में 6 फरवरी को विशेष पधारे थे ।

आदरणीय दादीजी के स्वागत में गांधीनगर सेक्टर-28 स्थित सेवाकेंद्र के आगे बहुत बडा 30 फीट X 20 फीट के स्टेज के साथ 1,000 कुर्सी में बैठ सके उतना बडा मंडप और दुसरी और ब्रह्माभोजन के लिये भी बहुत बडा मंडप बनवाया गया था । पुरा सेन्टर रोशनी से सजाया गया था । दोपहर के बाद दादीजी का आगमन हुआ, दो नन्ही परीओं सहित भव्य स्वागत किया गया ।

दादीजी काफि समय के बाद गांधीनगर सेवाकेंद्र पर पधारे थे अत: उन्होने बडी रुची से बाबाका कमरा, दादीजी का कमरा, सेंटर के तीनो मजले पर स्थित सभी वीआईपी रुम्स,क्लास रुम, पीस पार्क होल आदि देखा । तत्पश्चात दादीजी के अचानक लोटरी के रुप में आगमन में आमंतत्रित वीआईपी की उपस्थिति में स्वागत केक काटी गयी ।

उसके बाद प्यारी दादीजी के स्टेज पर पधारने पर उपस्थित 800 जितने ब्रह्माकुमार भाई बहनों ने अपनी जगह पर खडे होकर गार्ड ओफ ऑनर दिया । स्टेज पर दादीजी, हंसाबेन, राजयोगिनि सरलादीदी, बी.के. अमरबेन दादीजी की साथी सभी बहन भाईओ का पुष्प गुच्छ से स्वागत किया गया । गांधीनगर सेवाकेंद्र संचालिका बी.के.कैलाश दीदी ने स्वागत प्रवचन किया ।

खुश हाली गार्ड ओफ ऑनर पुष्प गुच्छ से दादीजी का स्वागत गांधीनगर की फुलवारी - श्रोतागण

 

 

 

Service News

71